Breaking News अन्य खबरें अरुणाचल प्रदेश असम आंध्र प्रदेश उड़ीसा कर्नाटक केरल गुजरात गोवा छत्तीसगढ़ जम्मू और कश्मीर झारखंड देश नागालैंड बिहार मणिपुर मध्य प्रदेश महाराष्ट्र मिजोरम मेघालय राजनीति राज्य विश्व हरियाणा हिमाचल प्रदेश होम

राम मंदिर पर PM मोदी के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, ‘तो क्या आप कोर्ट पर भी सवाल उठाएंगे’

Posted by. Vimal shukla

Sunday 25 नवंबर 2018 5:15 P M

कपिल सिब्बल ने आरोप लगाया कि राजनीतिक फायदे के लिए पीएम मोदी राम मंदिर मामले को उठा रहे हैं.

नई दिल्ली: राम मंदिर मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के अलवर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस को निशाने पर लिया. उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह राम मंदिर निर्माण की राह में रोड़े डाल रही है. पीएम मोदी के आरोपों पर कांग्रेस नेता और सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने कहा, ‘पीएम का आरोप है कि राम मंदिर मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में नहीं हो रही है इसके लिए कांग्रेस जिम्मेदार है. मैं बता देना चाहता हूं कि इस मामले में न तो कांग्रेस और न ही बीजेपी पक्षकार है. मैं इस मामले में केवल एक पक्षकार का वकील हूं.’

कपिल सिब्बल ने आगे कहा, ‘मैं जनवरी से नवंबर के बीच सुप्रीम कोर्ट में उपस्थित नहीं हुआ. अक्टूबर महीने में राम मंदिर मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हुई. चीफ जस्टिस ने कहा कि यह मामला बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है. ऐसे में क्या पीएम मोदी न्यायपालिका के खिलाफ बोलने की हिम्मत रखते हैं?’

अयोध्‍या विवाद पर पहली बार बोले PM मोदी, ‘राम मंदिर पर रोड़े अटका रही है कांग्रेस’

कपिल सिब्बल ने साफ-साफ कहा कि पीएम मोदी इस मामले को इसलिए उठा रहे हैं, क्योंकि लोकसभा चुनाव नजदीक आ गया है. वे इस मामले को तूल देकर राजनीतिक फायदा उठाना चाहते हैं.

बता दें, अलवर में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि अयोध्‍या मामले में कांग्रेस न्‍यायिक प्रक्रिया में दखल दे रही है. उन्होंने आरोप लगाया था कि इस मामले में कांग्रेस के वकील ने कोर्ट में सुनवाई टालने की अपील की थी. पीएम ने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट के बड़े-बड़े वकीलों को कांग्रेस राज्यसभा में भेजने लगी है. बीजेपी के पास अभी राज्यसभा में बहुमत नहीं है. लेकिन, राज्यसभा में कांग्रेस गंदा खेल खेल रही है. सुप्रीम कोर्ट के वकील राम मंदिर के मामले में दबाव डालते हैं. वे कहते हैं कि 2019 तक इस केस पर फैसला मत दो. इस तरह दबाव बनाने की राजनीति चल रही है.’